सोशल मीडिया पर ‘प्रधानमंत्री पकौड़ा रोजगार योजना’ फॉर्म की चर्चा, लोग बोले- पकौड़ा रोजगार पाएं ‘बेरोजगार’
सोशल-वाणी

सोशल मीडिया पर ‘प्रधानमंत्री पकौड़ा रोजगार योजना’ फॉर्म की चर्चा, लोग बोले- पकौड़ा रोजगार पाएं ‘बेरोजगार’

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने एक टीवी चैनल को दिए इन्टरव्यू में ‘पकौड़े’ को रोजगार बताकर अपने लिए फजीहत कर ली है। कभी सडकों तक ही सिमटकर रह जाने वाले इस गरीब और राहगीरों के खाने ने आज देश में पकौडे को लेकर बहस छेड़कर इसे मुख्यधारा में ला खड़ा किया है।

इसका पकौड़ा अखिलमहासंघ प्रधानमंत्री का सदियों तक ऋणी रहेगा। पकौड़ा अखिल महासंघ पीएम से अब हरी चटनी को भी रोजगार के समकक्ष लाने की मांग करेगा क्योंकि “पकौड़ी बिना चटनी कैईसे बनी”।

पीएम के विरोधियों ने उनकी इस बात का मजाक बनाया तो वहीं ज़्यादातर लोगों ने उनकी इस बात आलोचना की। अगर पकौड़े बेचने को प्रधानमंत्री रोजगार कहते है तो फिर भीख मांगना भी रोजगार की श्रेणी में आता होगा?

पीएम मोदी को इतना तो पता ही होगा कि पकौड़ा बेचना और भीख मांगना दोनों अनऑर्गेनाइज्ड सेक्टर में आते हैं! ये रोजगार की श्रेणी में नहीं आता। जबकि पत्रकार ने पीएम से रोजगार को लेकर सवाल किया था। पीएम ने यह बात इसीलिए कही क्योंकि सरकार में आने के बाद वो लोगों को नौकरी देने में विफल रहे हैं।

पीएम के पकौड़ा इन्टरव्यू देने के बाद से सोशल मीडिया पर एक फोटो वायरल हो रही है जो एक ‘फॉर्म’ की शक्ल में है। इस फॉर्म का नाम है ‘प्रधानमंत्री पकौड़ा रोजगार योजना’। वैसे जनकल्याण के लिए ‘प्रधानमंत्री योजना’ नाम से देश में कई योजनायें चल रही हैं, तो ऐसे में एक और प्रधानमंत्री योजना सही, भले ही वो पकौड़ा रोजगार योजना हो!

इस फॉर्म में कई महत्वपूर्ण बिंदु दर्शाए गए हैं जो सभी आवेदनकर्ताओं को भरना होगा। इसमें सबसे पहले आवेदक का नाम, उसके पिता का नाम और उम्र पूछी गई है, शैक्षिक योग्यता, पकौड़े तलने का अनुभव पूछा गया है इस नौकरी के लिए चाय बेचने वालों के लिए 25 प्रतिशत की छुट दी गई है।

पकौड़े बेचने वालों के लिए सौभाग्य की बात है कि उन्हें देश के महत्वपूर्ण स्थानों पर ठेला लगाने का मौका मिलेगा। आवेदक स्थान का चुनाव दिए गए स्थानों में से इच्छानुसार चुन सकते है।

पकौड़े का ठेला लगाने का स्थान निम्न्लिखित हैं:-

1. प्रधानमंत्री कार्यलय
2. RSS मुख्यालय
3. प्रधानमंत्री आवास
4. राष्ट्रपति भवन
5. विकास भवन
6. स्मृति ईरानी का आवास
7. संसद भवन

जिस हिसाब से देश के युवाओं में बेरोजगारी है ऐसे में जो लोग इस फॉर्म को ज्यादा से ज्यादा लोगों तक पहुंचाएगें वे ज़रूर पुण्य का कमाएगें। धन्यवाद!