RSS अब सामाजिक संगठन नहीं राजनीतिक संगठन बन चुका है तभी देश की सेना को चुनौती दे रहा है : मायावती
Running news

RSS अब सामाजिक संगठन नहीं राजनीतिक संगठन बन चुका है तभी देश की सेना को चुनौती दे रहा है : मायावती

बसपा सुप्रीमो मायावती ने संघ प्रमुख मोहन भागवत पर सेना का अपमान करने का आरोप लगाया है। मायावती का कहना है कि मोहन भागवत को सेना और आरएसएस कार्यकर्ताओं की तुलना करने पर देश की जनता से माफी मांगना चाहिए। मायावती के मुताबिक सेना की तुलना स्वयंसेवकों से करना सेना के लिए अत्यंत आपत्ति व अपमानजनक है।

मंगलवार को मायावती ने बयान जारी करते हुए कहा कि “मोहन भागवत को अपने मिलिटेंट स्वयंसेवकों पर इतना ज्यादा भरोसा है, तो वह अपनी सुरक्षा के लिए सरकारी खर्च पर विशेष कमांडो क्यों ले रखे हैं?”

मायावती ने कहा कि ऐसे समय में, जब सेना को विभिन्न प्रकार की चुनौतियों का सामना करना पड़ रहा है, मोहन भागवत का बयान सेना के मनोबल को गिराने वाला है। इसकी इजाजत उन्हें नहीं दी जा सकती।

आरएसएस पर आरोप लगाते हुए मायावती ने कहा है कि जनता के दिमाग से ये भ्रम समाप्त हो चुका है कि RSS एक सामाजिक संगठन है।

आरएसएस बहुत तेजी से राजनीतिक संगठन बनता जा रहा है। संघ के स्वयंसेवक समाज की सेवा को दरकिनार कर भाजपा के लिए चुनावी तैयारी करने में व्यस्त नजर आते हैं।