सिद्दू को पाकिस्तान नहीं जाना चाहिए था, मोदी जी की तरह ISI को यहीं बुला लेना था : सोशल
BH News

सिद्दू को पाकिस्तान नहीं जाना चाहिए था, मोदी जी की तरह ISI को यहीं बुला लेना था : सोशल

सिद्दू ने गले मिलने वाले विवाद पर कहा कि वो गुरू नानक देव के नाम पर जनरल बाजवा से गले मिले थे।

पूर्व क्रिकेटर और पंजाब में मंत्री नवजोत सिंह सिद्धू पाकिस्तान के दौरे से लौट आये हैं। वो अपने दोस्त और पाकिस्तान के नव-निर्वाचित प्रधानमंत्री इमरान खान के बुलावे पर उनके शपथ ग्रहण में गए थे। जिसमें सिद्धू के गले कई विवाद पड़ चुके हैं- इनमें पीओके के प्रधानमंत्री के बराबर में बैठना और पाकिस्तान के आर्मी चीफ जनरल बाजवा से गले मिलना शामिल है।

सिद्धू इस मामले पर अपनी सफाई दे चुके हैं। उनका कहना है कि उन्हें जहां बैठाया गया वो वहां पर बैठे। उन्हें मालूम नहीं था कौन वहां बैठा है।

वहीँ आर्मी चीफ से गले मिलने से उपजे विवाद पर सिद्धू बोल चुके है कि क्योंकि वो एक जाट बिरादरी से आते है तो उन्होंने स्नेह दिखाने के लिए ऐसा किया। उन्होंने ये भी कहा कि गुरू नानक देव के नाम पर जनरल बाजवा से गले मिले थे।

वहीँ अब इस लेकर सोशल मीडिया पर तंज और कटाक्ष के मशहूर ‘ऐसी तैसी डेमोक्रेसी’ ने पीएम मोदी पर तंज कसा है। सोशल मीडिया पर लिखा- सिद्दू को पाकिस्तान नहीं जाना चाहिए था, जूसर जी की तरह आईएसआई को यहीं बुला लेते।

गौरतलब हो साल 2015 में 31 दिसंबर की रात करीब 3 बजे सेना की वर्दी में चार आतंकियों ने पठानकोट एयरफोर्स बेस पर हमला बोल दिया। आतंकियों ने ये हमला ग्रेनेड और लाईट मशीन गन से किया था।

इस हमले और इसके बाद ऑपरेशन को अंजाम देने में सेना के सात जवान शहीद हो गए थे। इसकी जांच करने के लिए पाकिस्तान से आईएसआई की टीम को भारत ने आने की इजाजत दी थी।

बता दें कि पाकिस्तान के पीएम इमरान खान ने भारतीय क्रिकेटर दोस्तों को अपने शपथग्रह के लिए न्योता भेजा था। इमरान ने भारत के 1983 विश्वकप विजेता टीम के कप्तान कपिल देव, महान बल्लेबाज़ सुनील गावस्कर और सिद्धू को अपने शपथ के लिए आमंत्रण भेजा था।