कांग्रेस ने दी मोदी सरकार को चुनौती, बोली - दम है तो मनमोहन के बराबर विकास करके दिखाएँ मोदी
BH News

कांग्रेस ने दी मोदी सरकार को चुनौती, बोली - दम है तो मनमोहन के बराबर विकास करके दिखाएँ मोदी

जीडीपी की नई सीरीज़ के मुताबिक, पूर्वप्रधानमंत्री मनमोहन सिंह ने विकास दर को 2006-07 में ही इस स्तर पर पहुंचा दियाथा।

पूर्व PM मनमोहन सिंह के कार्यकाल में भारत की GDP विकास दर अधिकतम रहा। इस रिपोर्ट पर पूर्व वित्तमंत्री पी चिदंबरम ने ख़ुशी ज़ाहिर की है। साथ ही मोदी सरकार को चुनौती भी दी है की सरकार पांचवें वर्ष में बेहतर कर सके और कम से कम यूपीए-1 के ना तो यूपीए-II के बराबर तो कर सके। उन्होंने आकड़े पेश करते हुए कहा कि 1999 के बाद की 4 सरकारों के समय औसत वृद्धि दर थी NDA 1- 5.68%,UPA 1- 8.36%, UPA 2- 7.68%, NDA 2- 7.35% (4 साल)।

चिदंबरम ने सोशल मीडिया पर लिखा- सच की जीत हुई है। पुरानी श्रृंखला के आधार पर जीडीपी गणना ने साबित कर दिया है कि आर्थिक प्रगति के बेहतरीन वर्ष यूपीए के समय 2004-2014 के थे।

उन्होंने आगे लिखा मैं उम्मीद करता हूं कि पांचवें वर्ष में मोदी सरकार बेहतर करे। वह यूपीए-1 की बराबरी तो कभी नहीं कर सकती, लेकिन मैं चाहता हूँ कि वो कम से कम यूपीए-II के बराबर तो पहुंचे।

पूर्व वित्तमंत्री ने दावा करते हुए कहा कि यूपीए सरकारों ने अब तक का सबसे बेहतरीन दशकीय विकास किया और 14 करोड़ लोगों को गरीबी के दलदल से बाहर निकाला। दस साल तक देश के लोगों की सेवा करने का अवसर देने के लिए हम लोगों का धन्यवाद करते हैं।

बता दें कि देश की आज़ादी के बाद से सबसे अधिक आर्थिक वृद्धि दर 1988-89 में 10.2 प्रतिशत रही। उस वक्त राजीव गांधी देश के प्रधानमंत्री थे। ‘राष्ट्रीय सांख्यिकी आयोग द्वारा गठित ‘कमेटी आफ रीयल सेक्टर स्टैटिक्स’ ने पिछली श्रृंखला (2004-05) के आधार पर जीडीपी आंकड़ा तैयार किया। यह रिपोर्ट सांख्यिकी और कार्यक्रम क्रियान्वयन मंत्रालय की वेबसाइट पर जारी की गयी है।