महिलाओं के लिए सबसे असुरक्षित है ‘मध्य प्रदेश’ फिर भी महिला पुलिस 5% भी नहीं
BH News

महिलाओं के लिए सबसे असुरक्षित है ‘मध्य प्रदेश’ फिर भी महिला पुलिस 5% भी नहीं

पिछले कई सालों से नेशनल क्राइम रिकॉर्ड ब्यूरो की रिपोर्ट देखने से पता चलता है कि महिलाओं पर हो रहे अपराध में मध्यप्रदेश हर बार अव्वल पर है ।

भले ही आबादी के नजरिए से मध्य प्रदेश सबसे बड़ा राज्य ना हो लेकिन महिलाओं पर हो रहे अपराधों की संख्या देखी जाए तो यूपी-बिहार जैसे बड़े राज्यों को भी पीछे छोड़ देता है।

देशभर में औसतन महिलाओं पर जो अपराध हैं उससे कई गुना ज्यादा अपराध अकेले मध्यप्रदेश में होता है।

इतनी भयानक स्थिति के बावजूद 14 साल से सरकार चला रहे शिवराज सिंह चौहान ने सुधार के लिए कोई ठोस कदम नहीं उठाया।

प्रदेश में तैनात 86 हजार 946 पुलिसकर्मियों में मात्र 4190 महिलाएं हैं जिसमें सिर्फ कांस्टेबल के पद पर 2658 महिलाएं तैनात हैं,404 हेड कांस्टेबल , 250 एएसआई, 616 एस आई और 179 महिलाएं इंस्पेक्टर के पद पर तैनात हैं।

दैनिक भास्कर की एक खबर के मुताबिक , साल 2016 में 14000 पदों के लिए भर्ती थी जिनमें 4714 पदों पर महिलाओं को चुनना था लेकिन 1037 महिलाएं ही सेलेक्ट हो पाई।

यूं तो कहने को 33% महिला आरक्षण लागू है लेकिन महिला पुलिस के चयन में लापरवाही बरतने वाले मध्य प्रदेश के शासन प्रशासन नए अपराधों को दावत दे रहे हैं।