शर्मनाक: कश्मीरी लड़की से बलात्कार पर विरोध प्रदर्शन कर रही JNU छात्रसंघ उपाध्यक्ष की दिल्ली पुलिस ने की पिटाई
BH News

शर्मनाक: कश्मीरी लड़की से बलात्कार पर विरोध प्रदर्शन कर रही JNU छात्रसंघ उपाध्यक्ष की दिल्ली पुलिस ने की पिटाई

जवाहरलाल नेहरू यूनिवर्सिटी स्टूडेंट्स यूनियन (जेएनयूएसयू) ने आरोप लगाया कि दिल्ली पुलिस की एक महिला कॉंस्टेबल ने छात्रसंघ उपाध्यक्ष सिमोन जोया खान पर हमला किया।

घटना उस वक्त हुई जब जेएनयू के छात्रों ने आठ साल की एक कश्मीरी लड़की से बलात्कार और फिर उसकी हत्या के खिलाफ दिल्ली के जम्मू-कश्मीर भवन के पास प्रदर्शन किया।

जेएनयूएसयू ने आरोप लगाया कि पुलिस ने शांतिपूर्ण प्रदर्शन कर रहे छात्रों पर लाठीचार्ज कर दिया फिर उन्हें तुगलक रोड थाने ले जाया गया। वहां एक महिला कॉंस्टेबल उपाध्यक्ष सिमोन जोया खान को एक दूसरे कमरे में लेकर गई और उनपर हमला कर दिया।

सिमोन जोया खान ने मीडिया से बताया कि, “हमें प्रदर्शन की जगह से तुगलक रोड पुलिस थाने ले जाया गया। थाना परिसर में मुझे एक कमरे के भीतर खींचकर ले जाया गया और चेहरे पर मुक्के मारे गए। मेरी पिटाई की गई।”

जेएनयूएसयू के आरोप पर दिल्ली पुलिस के एडिशनल कमिश्नर बीके सिंह ने आरोपों को खारिज करते हुए कहा की ये दुर्भाग्यपूर्ण है। कमिश्नर ने बताया कि जेएनयूएसयू की उपाध्यक्ष ने ड्यूटी पर तैनात महिला कांस्टेबल पर हमला किया था। प्रदर्शन बिलकुल भी शांतिपूर्ण नहीं था। छात्रों ने पुलिस बर्रिकेट तोडा और सड़क जाम कर दिया था। पुलिस ने बहुत ही धैर्य और संयम से उन्हें संभाला।

जेएनयूएसयू ने महिला कॉंस्टेबल के खिलाफ शिकायत दर्ज करने की मांग की है।

गौरतलब है कि पुलिस और जेएनयू छात्रों के बीच विवाद अक्सर सामने आतें है। दिल्ली पुलिस केंद्र सरकार के हाथों में है और केंद्र सरकार ये बिलकुल नहीं चाहती कि जेएनयू के छात्र किसी भी प्रदर्शन का हिस्सा बनें। अभी हाल ही में सरकार ने जेएनयू के छात्रों के लिए 75% अटेंडेंस अनिवार्य कर दिया था जो इससे पहले नहीं था। इससे ये मालूम होता है कि सरकार छात्रों के प्रदर्शन पर रोक लगाने की हर जरुरी कोशिश कर रही है।

साभार- द हिन्दू