गुजरात के बाद अब कर्नाटक में ‘भाजपा’ को हराने के लिए एकजुट हुए दलित, अमित शाह को दिखाए ‘काले झंडे’
BH News

गुजरात के बाद अब कर्नाटक में ‘भाजपा’ को हराने के लिए एकजुट हुए दलित, अमित शाह को दिखाए ‘काले झंडे’

केंद्रीय मंत्री अनंत कुमार हेगड़े ने कुछ दिनों पहले दलितों को लेकर विवादित बयान दिया था। जिससे दलित समाज भाजपा से काफी नाराज हो गए थे। अब इस नाराजगी का सामना झेलना पड़ा कर्नाटक दौरे पर गए भाजपा के अध्यक्ष अमित शाह को।

कर्नाटक के कलबुर्गी में अनुसूचित जाति के एक सम्मलेन में कुछ दलितों ने भाजपा अध्यक्ष अमित शाह को काले झंडे दिखाए। खबर ये भी है कि सम्मलेन में प्रवेश करने से पहले अमित शाह के काफिले को रोकने की भी कोशिश किया गया। दलितों ने वहां भी काफिले को काले झंडे दिखाए।

भाजपा अध्यक्ष अमित शाह 25 जनवरी से कर्नाटक के बिदर, गुलबर्गा और यादगीर जिलों की तीन दिवसीय यात्रा पर निकले हैं। इस दौरान वो कलबुर्गी के एनवी कॉलेज में अनुसूचित जाति के एक सम्मलेन में पहुंचे थे।

इंडिया टुडे की खबर के मुताबिक झंडे दिखाने वाले दलित केंद्रीय मंत्री अनंत कुमार हेगड़े के सविंधान को लेकर दिए गए बयान का विरोध कर रहे थे। खबर के मुताबिक जब सम्मलेन शुरू हुआ तो वहां कुछ लोग खड़े होकर नारे लगाने लगे और काले झंडे दिखाने लगे। पुलिस ने तुरंत 10 लोगों को हिरासत में ले लिया।

प्रदर्शनकारियों को जवाब देते हुए अमित शाह ने भी कांग्रेस पर तंज कस दिया। अमित शाह ने कहा, “ये सब कांग्रेस की संस्कृति है। चिंता ना करें सरकार बदल रही है।”

बता दें कि कुछ दिनों पहले केंद्रीय मंत्री अनंत कुमार हेगड़े ने कर्नाटक में एक कार्यक्रम में संविधान पर बोलते हुए कहा था कि, “संविधान को बदले जाने की जरूरत है। संविधान को समय-समय पर बदला जाना चाहिए और हम ऐसा करने किए आए हैं।”

उन्होंने एक और जगह दलितों पर विवादित बयान देते हुए कहा था कि, “हम सड़क के कुत्तों द्वारा किए जा रहे विरोध प्रदर्शनों से नहीं फंस सकते हैं।” अनंत कुमार के इस बयान से दलितों में गुस्सा भर गया था।