CCTV  के लिए लेने होंगे लाइसेंस, केजरीवाल बोले- क्या राफ़ेल से कम पैसे मिले, जो लाइसेंस के ज़रिए पैसे लेगी मोदी सरकार
BH News

CCTV के लिए लेने होंगे लाइसेंस, केजरीवाल बोले- क्या राफ़ेल से कम पैसे मिले, जो लाइसेंस के ज़रिए पैसे लेगी मोदी सरकार

मुख्यमंत्री ने कहा कि सीसीटीवी कैमरे लगेंगे तो बीजेपी नेताओं को चुनाव के वक्त पैसा और दारू बांटने में दिक्कत होगी।

दिल्ली कैबिनेट ने दिल्ली में अपराध पर लगाम कसने के लिए सीसीटीवी कैमरे लगाने के प्रस्ताव को मंजूरी दे दी। मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने विधानसभा में इसकी जानकारी देते हुए केंद्र की मोदी सरकार पर जमकर निशाना साधा।

केजरीवाल ने कहा कि पूरी दिल्ली में पिछले कुछ सालों में अपराध की घटनाएं बढ़ी हैं, जिस तरह से महिलाओं के खिलाफ़ अपराध में इज़ाफ़ा हो रहे है, इससे लोग बेहद नाराज़ हैं। दिल्ली पुलिस केंद्र की बीजेपी सरकार के आधीन है। वो दिल्ली की कानून-व्यवस्था संभालने में पूरी तरह से विफल हुए हैं।

उन्होंने कहा, केंद्रीय गृह मंत्रालय, पीएमओ, एलजी, उनकी पुलिस दिल्ली के लोगों को सुरक्षा देने में नाकाम रहे हैं। हमारे हाथ में इतना ही था कि हम सीसीटीवी कैमरे लगा सकें। सीसीटीवी कैमरे लगेंगे तो आदमी के मन में डर रहता है कि अगर हमने कुछ गलत किया तो कैमरे में कैद हो जाएंगे। इससे चोरी और अन्य अपराध में भी कमी आएगी।

मुख्यमंत्री ने आगे बीजेपी पर कटाक्ष करते हुए कहा कि सीसीटीवी कैमरे लगेंगे तो बीजेपी नेताओं को चुनाव के वक्त पैसा और दारू बांटने में दिक्कत होगी। कैमरे लगना दिल्ली की जनता की जीत है। लेकिन, इसके लिए हमें काफी मशक्कत करनी पड़ी। भाजपा वाले बाज नहीं आए। इन्होंने पूरी अफसरशाही पर कंट्रोल किया हुआ है।

केजरीवाल ने कहा कि इन्होंने अधिकारियों के ज़रिए 3 साल तक फाइलों को घुमाया। जब अंत में दो महीने पहले यह लगने की स्थिति में पहुंचा तो एलजी ने कहा कि कमिटी इसपर फैसला लेगी, यानी कैमरों के लिए लाइसेंस लेना पड़ेगा।

उन्होंने कहा कि लाइसेंस के जरिए पैसा बनाने का रास्ता खोला जा रहा है। कोई भी लाइसेंस बिना पैसों के नहीं मिलेगा। भाजपा विधायकों की ओर इशारा करते हुए केजरीवाल ने कहा कि राफेल डील से कम पैसे मिले थे कि लाइसेंस के ज़रिए पैसे लिए जाएंगे। क्या अब लाइसेंस के पैसों से पार्टी चलेगी?