योगीराज में न बिजली न इलाज: बिजली कटी तो टॉर्च की रौशनी में कर दिया 50 मरीजों के आँखों का ऑपरेशन
BH News

योगीराज में न बिजली न इलाज: बिजली कटी तो टॉर्च की रौशनी में कर दिया 50 मरीजों के आँखों का ऑपरेशन

उन्नाव के नवाबगंज सामु​दायिक स्वास्थ्य केंद्र में टॉर्च की रोशनी से आंख के आॅपरेशन मामला सामने आया है। नवाबगंज के समुदायिक स्वास्थ केन्द्र में जय अम्बा सेवा समिति द्वारा निशुल्क आंखों का ओपरेशन कार्यक्रम रखा गया था, जिसके शुरू होते ही बिजली चली गई।

दरअसल इस निशुल्क आंखों की आपरेशन की शुरुआत हुई तो गाँव वालों ने जानकारी मिलते हुए इलाज कराने पहुँच गए,मरीज लाइन लगाकर अपनी बारी इंतजार करने लगे। एक मरीज की बारी आई और ओपरेशन के लिए बैठा ही था इसी दौरान जब बिजली चली गई। आनन फानन में अधीक्षक ने जनरेटर चलाने के बजाय टॉर्च से आॅपरेशन शुरू कर दिया।

बिजली न रहने के दौरान डॉक्टरों ने करीब 50 मरीजों के आपरेशन भी कर दिए। टॉर्च की रोशनी में आपरेशन के बाद मरीजों की जान से खेलते हुए उन्हें ज़मीन पर लिटा दिया फिर खुद ही खाने की व्यवस्था करने के लिए बोल दिया गया

उधर योगी सरकार के स्वास्थ्य मंत्री सिद्दार्थ नाथ सिंह ने मामले में उन्नाव के सीएमओ राजेंद्र प्रसाद को हटा दिया है। मगर क्या सिर्फ सीएमओ को सस्पेंड कर देना काफी है ? लापरवाही की हद पार करके जो मरीजों की जान से खेल खेला गया उसकी जवाबदेही कौन देगा?

मामले की गंभीरता को देखते हुए सरकार ने तीन दिनों के अन्दर रिपोर्ट देने को कहा गया है। मगर योगी सरकार में एक बार फिर से स्वास्थ्य सेवा मामलों में घेरों में है।