सनातन संस्था से जुड़े शख़्स के घर से मिले बम, पत्रकार ने पूछा- क्या देश और धर्म को बचाने के लिए बम बनाए जा रहे थे?
BH News

सनातन संस्था से जुड़े शख़्स के घर से मिले बम, पत्रकार ने पूछा- क्या देश और धर्म को बचाने के लिए बम बनाए जा रहे थे?

“देशभक्त पत्रकारों-एंकरों को आज इन पर पिल पड़ना चाहिए जैसे किसी दाढ़ी वाले पर पिल पड़ते हैं”

महाराष्ट्र का हिंदुत्ववादी संगठन 'सनातन संस्था' एक बार फिर से विवादों में घिरा है। एंटी टेरर स्कवॉयड (एटीएस) द्वारा की गई छापेमारी में संगठन के एक कार्यकर्त्ता के घर से बड़ी मात्रा में विस्फोटक बरामद हुए हैं। जिसके बाद कार्यकर्ता को हिरासत में लिया गया है।

एटीएस की एक टीम ने खूफिया सूचना के आधार पर गुरुवार की रात महाराष्ट्र के पालघर इलाके में वैभव राउत नामक व्यक्ति के घर पर छापा मारा। इस छापे में एटीएस की टीम को वैभव के घर से करीब 8 देशी बम, आपत्तिजनक साहित्य, गन पाउडर और डेटोनेटर आदि सामान बरामद हुआ है।

एटीएस के अधिकारियों का कहना है कि उनकी पिछले कुछ समय से वैभव पर नजर थी। फिलहाल एटीएस आरोपी को हिरासत में लेकर पूछताछ कर रही है। वहीं आरोपी के घर से मिले संदिग्ध सामान को जांच के लिए मुंबई फॉरेंसिक साइंस लैबोरेटरी भेज दिया गया है। बता दें कि वैभव राउत सनातन संस्था और हिंदू जनजागृति समिति का सदस्य है।

इस मामले के सामने आने के बाद वरिष्ठ पत्रकार अजीत अंजुम ने ट्वीट कर सिलसिलेवार कई सवाल खड़े किए। उन्होंने पूछा, “ये सनातन संस्था वाले देसी बम-बारूद-डेटोनेटर का क्या करने वाले थे? देशहित और धर्महित की खातिर इनके बमों का क्या काम? ये कैसे सनातनी हैं, जो आतंकियों की तरह बम बना रहे थे”।

अजीत अंजुम ने कथित राष्ट्रवादी मीडिया पर तंज़ कसते हुए कहा, “देशभक्त पत्रकारों-एंकरों को आज इन पर पिल पड़ना चाहिए जैसे किसी दाढ़ी वाले पर पिल पड़ते हैं”।

गौरतलब है कि सनातन संस्था का नाता पहले भी विवादों से रहा है। संस्था पर प्रगतिशील लेखकों की हत्या करने तक के आरोप लग चुके हैं। इस संस्था से जुड़े कई लोग इस तरह की गतिविधियों में लिप्त पाए गए हैं। वरिष्ठ पत्रकार गौरी लंकेश की हत्या का शक भी सनातन संस्था के कार्यकर्ताओं पर है। सनातन संस्था को एक उग्र हिन्दू संगठन के रूप में जाना जाता है।