प्रधानमंत्री रोजगार योजना में 88% लोन एप्लीकेशन रिजेक्ट, अखिलेश प्रताप बोले- ‘गोदी मीडिया’ कबतक मोदी की भक्ति करेगी
BH News

प्रधानमंत्री रोजगार योजना में 88% लोन एप्लीकेशन रिजेक्ट, अखिलेश प्रताप बोले- ‘गोदी मीडिया’ कबतक मोदी की भक्ति करेगी

नरेंद्र मोदी ने 2014 लोकसभा चुनाव प्रचार के दौरान कहा था कि वो हर साल दो करोड़ युवाओं को रोजगार देंगे। मोदी सरकार को लगभग चार साल होने को हैं, अब तक आठ करोड़ युवाओं को रोजगार मिल जाना चाहिए। लेकिन ऐसा नहीं हुआ है उल्टा युवाओं से पकौड़ा बेचने की सलाह दी जा रही है।

खैर, ताजा मामला ये है कि बजट 2018-19 में मोदी सरकार ने कहा कि वो पीएमईजीपी (प्रधानमंत्री इम्‍प्‍लॉयमेंट जनरेशन प्रोग्राम) के तहत 7.5 लाख युवाओं को रोजगार देंगे। लेकिन मनी भास्कर में प्रकाशित आंकड़े बताते हैं कि मोदी सरकार ने एक बार फिर युवाओं को धोखा दिया है।

अप्रैल 2017 से अब तक आंकड़े बताते हैं कि पीएमईजीपी के तहत 4 लाख से ज्यादा युवाओं ने अप्‍लाई किया। लेकिन इनमें से सिर्फ 50 हजार को ही लोन मिल पाया है। यानी कि महज 12 फीसदी बेरोजगारों को लोन दिया गया, बाकी 88 फीसदी युवाओं की एप्‍लीकेशन रिजेक्‍ट कर दी गई।

पीएमईजीपी की वेबसाईट पर प्रकाशित आंकड़े बताते हैं कि अप्रैल 2017 से 13 फरवरी 2018 तक 4 लाख 3 हजार 988 युवाओं ने प्रधानमंत्री इम्‍प्‍लॉयमेंट जनरेशन प्रोग्राम के तहत लोन के लिए एप्‍लाई किया। इनमें से 3 लाख 49 हजार 208 एप्‍लीकेशन कलेक्टर की अगुआई में बनी डिस्ट्रिक्‍ट लेवल टास्‍क फोर्स कमेटी के सामने रखी गईं।

कमेटी ने 2 लाख 52 हजार 536 एप्‍लीकेशन को मंजूरी देते हुए बैंकों के लिए फॉरवर्ड कर दिया, लेकिन इनमें से सिर्फ 49 हजार 721 एप्‍लीकेशन को बैकों ने मंजूरी देते हुए लोन सेंक्‍शन किया है।

ऐसा करने के पीछे बैंक ने अपने कारण गिनवा दिए हैं। लेकिन बैंक के कारण गिनवाने से युवाओं को रोजगार नहीं मिलता और न ही बजट में किया गया वादा पूरा होता है।

इन आंकड़ों के सार्वजिक होने के बाद कांग्रेस प्रवक्ता अखिलेश प्रताप सिंह ने ट्वीट किया है कि ‘प्रधानमंत्री रोजगार योजना में
88% लोन एप्लीकेशन रिजेक्ट, बैंको ने लगाया अड़ंगा।

सब जुमला निकला लेकिन मोदी और गोदी मीडिया आत्मप्रशंसा के कीर्तन करने में लगे है।’