पाकिस्तान की तरफ से आया आगाज-ए-दोस्ती भरा पैगाम
BH firstpost

पाकिस्तान की तरफ से आया आगाज-ए-दोस्ती भरा पैगाम

2 अक्टूबर अंतराष्ट्रीय अहिंसक दिवस पर पाकिस्तान की तरफ से आगाज-ए-दोस्ती भरा पैगाम हिंदुस्तान के लोगों के लिए आया है। करीब 20 दिनों से दोनों देशों में जारी तनातनी औऱ युद्ध जैसे हालातों पर गौर करके लाहौर के लोगों ने अहिंसा के पुजारी राष्ट्रपिता महात्मा गाँधी की जयंती पर इकठ्ठा होकर दोस्ती और शांति का पैगाम हिंदुस्तान भेजा।

पाकिस्तान की तरफ से आया आगाज-ए-दोस्ती भरा पैगाम

दरअसल कल पाकिस्तान लाहौर के लिबर्टी मार्केट में लोग दोनों देशों के बीच शांति और मोहब्बत का पैगाम लेकर पहुंचे। इस प्रोग्राम का आयोजन आगाज-ए-दोस्ती नामक संस्था ने किया।

पाकिस्तान की तरफ से आया आगाज-ए-दोस्ती भरा पैगाम

लाहौर के लोगों ने कहा कि जब हम पड़ोसी होकर पानी शेयर करते है, हवा शेयर करते है हमारा इतिहास,संस्कृति औऱ भाषा की एक है। इसके अलावा भी हम लोग गरीबी,बेरोजगारी,अशिक्षा जैसी बिमारियों से एक जैसी स्थिती में है। फिर भी जंग क्यों सोचते है क्यों न इससे एकसाथ लड़ा जाए और अपने भविष्य को एकसाथ मिलकर बचाने की कोशिशें की जाएं।

पाकिस्तान की तरफ से आया आगाज-ए-दोस्ती भरा पैगाम

लेकिन हमलोग राजनीति और राजनेताओं की चक्कर में अपने भविष्य को एकसाथ अंधेरे में धकेल रहे हैं। अगर जंग जैसी स्थिती होती है तो।

पाकिस्तान की तरफ से आया आगाज-ए-दोस्ती भरा पैगाम

दोनों तरफ के लोग शांति चाहते है। इसलिए हमलोग अपने लीडर से अपील करते है कि जल्द से जल्द दोनों देश प्यार-मोहब्बत बांटना शुरू करें। साथ रहना रहे खुश रहें। हमलोग भी यही चाहते है।

पाकिस्तान की तरफ से आया आगाज-ए-दोस्ती भरा पैगाम
पाकिस्तान की तरफ से आया आगाज-ए-दोस्ती भरा पैगाम
पाकिस्तान की तरफ से आया आगाज-ए-दोस्ती भरा पैगाम