अमेरिकी संस्था की रिपोर्ट: मोदी सरकार की उपलब्धि झूठी है, ‘ईज़ ऑफ़ डूइंग बिज़नेस’ में नहीं बढ़ी है भारत की रैंकिंग
BH firstpost

अमेरिकी संस्था की रिपोर्ट: मोदी सरकार की उपलब्धि झूठी है, ‘ईज़ ऑफ़ डूइंग बिज़नेस’ में नहीं बढ़ी है भारत की रैंकिंग

‘ईज़ ऑफ़ डूइंग बिज़नेस’ भारत में चर्चा का मुद्दा और मोदी सरकार का तकिया कलाम बनता जा रहा है। ये मोदी सरकार की इकलौती उपलब्धि बताई जा रही है। लेकिन इसको लेकर भी अब कई आरोप लग रहे हैं।

अमेरिका के एक जाने-माने एनजीओ सेन्टर फॉर ग्लोबल डेवलपमेंट (सीजीडी) ने अपनी एक रिपोर्ट में ये साबित कर दिया है कि ‘ईज़ ऑफ़ डूइंग बिज़नेस’ इंडेक्स में भारत की रैंकिंग में बड़ा बदलाव नहीं आया है।

बता दें, कि ये दावा किया गया था कि वर्ल्ड बैंक द्वारा ‘ईज़ ऑफ़ डूइंग बिज़नेस’ इंडेक्स में भारत ने बड़ी छलांग लगाई है। कहा गया था कि भारत 130 से सीधा 100 पर आ गया है। इसे मोदी सरकार की बड़ी उपलब्धी बताया गया था| लेकिन सीजीडी के मुताबिक ये रैंकिंग सही नहीं है।

सीजीडी के मुताबिक, 2014 में या उसके बाद जब रैंकिंग दी गई थी तब वर्ल्ड बैंक ने अन्य मेथड से रैंकिंग दी थी लेकिन इस बार मेथड बदल दिए गए हैं। दूसरी चीज़ इसके बाद भी इस बार भारत का स्कोर ज़्यादा नहीं बढ़ा है बल्कि नए तरीके के द्वारा कई अन्य राष्ट्रों का स्कोर घटा है जिस कारण भारत ऑटोमेटिक ऊपर गया है। लेकिन ये नए मेथड बहुत विवादित है।

वर्ल्ड बैंक ने भी जब ये रिपोर्ट पेश की थी तो भारत के प्रदर्शन को बढ़ता नहीं बताया था बल्कि सिर्फ इतना एलान किया गया था कि रैंकिंग में उछाल आया है। लेकिन रैंकिंग में उछाल इस लिए आया कि बाकि सब कि रैंकिंग घटी या इसलिए आया कि भारत का प्रदर्शन बहतर हुआ है ये नहीं बताया गया था।

बता दें, कि ये रैंकिंग काफी विवादित है। वर्ल्ड बैंक के ही मुख्य अर्थशास्त्री पॉल रोमर ने इस रैंकिंग को गलत बताया था। इस कारण उन्होंने वर्ल्ड बैंक से इस्तीफा भी दे दिया था।

सीजीडी ने अपनी रिपोर्ट में 2014 और 2017 के नए मापदण्ड को जोड़ दिया है। उसके बाद भी भारत का प्रदर्शन बढ़ता नहीं दिखाई दे रहा है। नीचे दिए गए इंडेक्स में ईज़ ऑफ़ डूइंग बिज़नस के अलग अलग मापदण्ड में भारत के प्रदर्शन को दिखाया गया है। सभी में मापदण्ड में कोई भी बड़ा बदलाव नहीं दिखाई दे रहा है।

अमेरिकी संस्था की रिपोर्ट: मोदी सरकार की उपलब्धि झूठी है, ‘ईज़ ऑफ़ डूइंग बिज़नेस’ में नहीं बढ़ी है भारत की रैंकिंग
अमेरिकी संस्था की रिपोर्ट: मोदी सरकार की उपलब्धि झूठी है, ‘ईज़ ऑफ़ डूइंग बिज़नेस’ में नहीं बढ़ी है भारत की रैंकिंग