फिर से आधार डेटा हुआ लीक, गूगल पर आसानी से मिल रही लोगों के आधार की जानकारी
BH firstpost

फिर से आधार डेटा हुआ लीक, गूगल पर आसानी से मिल रही लोगों के आधार की जानकारी

एक तरफ मोदी सरकार आधार की सुरक्षा को लेकर सुप्रीम कोर्ट में दलीले दे रही है। वहीं दूसरी तरफ आधार की सुरक्षा का ये हाल है कि गूगल पर ही लोगों के आधार की जानकारी आसानी से मिल रही है।

अंग्रेज़ी समाचार वेबसाइट ‘द क्विंट’ की खबर के मुताबिक, एक साधारण से गूगल सर्च की बदौलत आप कई लोगों के आधार से जुड़ी जानकारी देख सकते हैं। इन जानकारियों में उनका नाम, पता, आधार संख्या, जन्मतिथि और तस्वीर शामिल हैं, जिन्हें बिना किसी ठोस वजह के इंटरनेट पर सार्वजनिक रूप से उपलब्ध करवा दिया गया है।

इस डेटा लीक में सबसे बड़ी विडंबना यह है कि जिस आधार टैगलाइन ‘मेरा आधार मेरी पहचान’ को सरकार ने निकाला है उसे ही गूगल पर टाइप करने से आधार डेटा सामने आ रहा है।

ऐसे मिल रहा है डेटा

गूगल पर टाइप कीजिए “mera aadhaar meri pehchan filetype:pdf” सर्च रिजल्ट में कई पीडीएफ फाइल दिखेंगी, उनमें से किसी एक में क्लिक कीजिए। ‘डाउनलोड पीडीएफ’ पर क्लिक कीजिए। अजनबी लोगों की आधार डिटेल आपके डेस्कटॉप पर सेव हो गई। इन जानकारियों में आपको लोगों के नाम, आधार नंबर, पिता का नाम, पता, जन्मतिथि और तस्वीर दिखाई देगी।

इन वेबसाइटों पर लीक हुई जानकारी

जिन साइटों ने सार्वजनिक रुप से लोगों की आधार जानकारी को अपलोड किया है, उसमें इंडियन नेशनल सेंटर फॉर ओशन इन्फर्मेशन सर्विसेज (www।incois।gov।in) की आधिकारिक सरकारी वेबसाइट, अखिल भारतीय फुटबॉल महासंघ की आधिकारिक वेबसाइट (www।the-aiff।com) और हैदराबाद में स्थित एक निजी कंपनी स्टारकार्ड इंडिया (http://starcardsindia।com) की वेबसाइट, शामिल है।

सवाल

इस तरह आसानी से आधार जानकारी मिलने से लोगों के लिए बड़ी मुश्किलें पैदा हो सकती है। एक तरफ सरकार योजनाओं से लेकर बैंक खाते तक को आधार से लिंक करा रही है। लगभग सभी महत्वपूर्ण कामों के लिए आधार को अनिवार्य कर दिया गया है। ऐसे में अगर लोगों के आधार की जानकारी इस तरह आसानी से इन्टरनेट पर लीक होगी तो कोई भी उनके बैंक खाते से लेकर निजी कामों तक में सेंध लगा सकता है। बता दें, कि पिछले एक साल में आधार की जानकारी का प्रयोग कर बैंक खातों से चोरी के मामले बढ़े हैं।

पहले भी लीक हो चुकी है आधार जानकारी

इससे पहले भी आधार से जुड़ी जानकारी लीक होने के मामले सामने आ चुके हैं। ‘द ट्रिब्यून’ अखबार ने अपनी एक रिपोर्ट में बताया था कि कैसे सिर्फ 500 रुपये में किसी के भी आधार से जुड़ी जानकारी मिल रही है।

हाल ही में एक फ्रेंच हैकर एलियट एल्डर्सन ने आधार डेटा की सुरक्षा की पोल खोल दी थी। हैकर ने मिनटों में सरकारी वेबसाइट को हैक कर लिया था। फ्रेंच हैकर ने ट्विटर पर कुछ स्क्रीनशॉट भी शेयर किए थे। हैकर ने बताया कि किस तरह से सरकारी वेबसाइटों पर आधार कार्ड की स्कैन और बायोमेट्रिक डिटेल को खुला छोड़ दिया जाता है और आपकी गोपनीय जानकारी की सुरक्षा से खिलवाड़ किया जाता है।